Sunday, 09 August, 2020

Short Stories Of Tenali Raman in Hindi / तेनाली रमन की हिंदी कहानियां


Short Stories Of Tenali Raman in Hindi

Short Stories Of Tenali Raman in Hindi मित्रों इस पोस्ट में Short Stories Of Tenali Raman in Hindi Written की कहानियां दी गयी हैं।  आप इसे जरूर पढ़ें और बहुत अच्छा लगेगा।

 

 

 

Short Stories Of Tenali Raman in Hindi ( तेनाली रमन की हिंदी कहानियां ) 

 

 

 

 

 

1- ईरान के बादशाह का सेवक करीम घूमने के उद्देश्य से विजय नगर के राजा कृष्णदेव राय के यहां आया। राजा ने उसका खूब सत्कार किया और अपने सेवको को आदेश दिया कि मेहमान को कोई तकलीफ नहीं होनी चाहिए।

 

 

 

 

 

करीम राजा के सेवक से बहुत खुश था। एक बार राजा के सेवक ने करीम को रसगुल्ला खाने को दिया। करीम ने रसगुल्ला बनाने की विधि जानने की इच्छा प्रकट की, लेकिन रसगुल्ला बनाने की विधि नौकर को भी नहीं मालूम थी।

 

 

 

तेनाली की हिंदी कहानी 

 

 

 

 

 

राजा ने तेनाली राम से रसगुल्ला की विधि करीम को बताने के लिए कहा। दूसरे दिन तेनाली रामा  ने गन्ना छीलकर उसे छोटे-छोटे टुकड़ों में बांट दिया। उसे एक पात्र में रखकर करीम को खाने के लिए दिया। करीम को बहुत पसंद आया।

 

 

 

 

 

लेकिन राजा बहुत नाराज हो गए। उस सेवक के जाने के बाद राजा ने तेनाली से कहा, ” यह क्या था ? क्या रसगुल्ला ऐसा होता है ? ”

 

 

 

 

तेनाली रमन  ने कहा, “महाराज, गन्ने से चीनी और गुड़ बनाया जाता है। गुड़ से ही चीनी बनती है और चीनी से रसगुल्ला बनाने में प्रयुक्त होती है। मैंने वही किया।  रसगुल्ला जिस चीज से बनाता है, मैंने वही उस सेवक को दे दिया।  ” तेनाली  का जवाब सुनकर राजा बहुत प्रसन्न हुए।

 

 

 

 

तेनाली रामा की हिंदी कहानी 

 

 

 

 

 

2- एक बार विजय नगर में चोरी की घटनाये बहुत बढ गयी थी। राजा कृष्णदेव  राय प्रजा की इस तकलीफ से बहुत परेशान थे। कोई उपाय न देखकर उन्होंने तेनाली राम ( Tenali Rama )  को बुलाया और चोरी की समस्या ख़त्म करने को कहा।

 

 

 

 

 

तेनाली ( Tenali ) ने कहा, ” मैं इस समस्या को चार दिन में ही समाप्त कर दूंगा और राजा की आज्ञा लेकर वहां से चला गया। ” उसके बाद तेनाली ने पूरे राज्य में सभी लोगों से कहलवा दिया कि  प्रत्येक आदमी अपनी तिजोरी रात में खोल कर सोये। यह बात चोरों तक पहुँच गयी।

 

 

 

 

 

तेनाली ( Tenali Raman ) की इस बुद्धि पर चोर हंसने लगे। दूसरे दिन एक साहूकार के घर चोर घुसे।  वहाँ  तिजोरी खुली हुई थी। चोरों ने तिजोरी से रुपया पैसा गायब कर दिया और एक मंत्री के घर गए, क्योकि उसके इशारे पर ही चोरी होती थी।

 

 

 

 

 

दूसरे दिन तेनाली राम दो चोरों के साथ दरबार में हाजिर हुआ और साथ में चोरी करवाने वाला मंत्री भी था। कृष्णदेव राय ने तेनाली राम से पूछा, “यह कैसे इतनी जल्दी संभव हो सका ?”

 

 

 

 

 

इसपर तेनाली राम ने कहा, “महाराज मैंने सभी धनी साहूकारों के तिजोरी के पास काला  रंग फैलवा दिया था। इसलिए इन चोरों को पकड़ने में देर नहीं लगी और यह कार्य इस मंत्री के इशारे पर होता था। जो इस समय हमारे साथ है।” राजा ने तीनो को जेल में भेज दिया।

 

 

 

Short Stories Of Tenali Raman in Hindi Writing

 

 

 

 

3- एक बार तेनाली राम कही से सोने का बक्सा लेकर राजदरबार में आये। जिसे सभी दरबारी देखकर चकित रह गए। राजा कृष्णदेव राय ने तेनाली राम से पूछा, “यह बक्सा तुम्हे किसने दिया ?” तेनाली राम ( Tenali Ram )  ने कहा, “महाराज यह बक्सा मुझे भेंट में मिला है। हमारे राज्य के कुछ ही दूरी पर एक साहूकार आया है, जो लोगो से पैसे वसूलता है। आज वह बहुत ही खुश था और सबको उपहार दे रहा था। उसी से हमें यह उपहार मिला है।”

 

 

 

 

 

तेनाली रामा  ने फिर कहा, “महाराज हमारे दरबार में भी उसने कई मंत्रियों को भी ऐसा उपहार दिया है।” यह बात सुनकर राजा ने क्रोधित होकर बोला, “क्या कह रहो तेनाली रमन , तुम्हे मालूम है किसके सामने बात कर रहे हो?”

 

 

 

 

 

तेनाली राम ने कहा, ” महाराज मैं सत्य कह रहा हूँ, अगर आपको विश्वास नहीं है तो आप स्वयं चलकर देख लीजिये। ” राजा ने कहा, “अगर तुम्हारी बात सत्य नहीं हुई तो तुम्हे कड़ी सजा दी जाएगी।”

 

 

 

 

 

राजा कृष्णदेव राय दूसरे दिन तेनाली राम ( Tenali Raman )  के साथ उस जगह पर गए, जहां पर साहूकार सभी से पैसे वसूल रहा था। राजा सबके के बीच खड़े होकर उसे देख रहे थे। अचानक से वे आगे आये। साहूकार  राजा को पहचान नहीं पाया। साहूकार ने राजा से कहा, “तुम लाइन में क्यों नहीं आये ? तुम नियम तोड़ रहे हो तुम्हे सख्त सजा मिलेगी।”

 

 

 

 

 

 

इसपर राजा ने साहूकार से कहा, ” जिस देश का प्रधान ही नियम तोड़ रहा है तो प्रजा की क्या बात है।” यह सुनकर साहूकार क्रोध में आ गया, और राजा से बोला, “तुम्हे सजा के रूप में हमें 100 सोने के सिक्के देने होंगे।”

 

 

 

 

 

 

यह सुनते ही राजा क्रोधित हो गए और अपना नकली लिवास उतार दिया। जिसे देखकर साहूकार डर गया और राजा ने उसे जेल में डालने का आदेश दिया।

 

 

 

 

 

 

 

4- एक बार शत्रु देश के राजा का मंत्री भेष बदलकर विजय नगर में राजा कृष्णदेव राय के दरबार में आया। उसने राजा से कहा, “महाराज, मेरा नाम विशाल है। मैं एक जादूगर हूँ। मैं कई राज्यों से घूमते-घूमते आपके दरबार में पंहुचा हूँ। आज मैं इस राज्य के नजदीक वाले नदी के किनारे परियों को बुलाने वाला हूँ। मैं चाहता हूँ कि आप भी आये।”

 

 

 

 

राजा ने कहा, “ठीक है। मैं तुम्हारा जादू देखने के लिए अवश्य चलूँगा।” रात के समय राजा उस जादूगर के साथ नदी के किनारे पहुंचे। नदी के कुछ दूरी पर एक पुराना मकान था। वह जादूगर राजा को लेकर उस मकान के अंदर ले गया।

 

 

 

 

 

महल के अंदर जाने के बाद राजा ने देखा कि जादूगर को किसी ने बंदी बना लिया है। यह देखकर राजा आश्चर्य चकित रह गए। तभी तेनाली राम बाहर आये। तेनाली राम राजा से कहा, “महाराज यह हमारे शत्रु देश का मंत्री है। जो आपको मारने के लिए आया था।”

 

 

 

 

 

राजा ने तेनाली राम से कहा, “यह बात तुमको कैसे मालूम है ?” इसपर तेनाली ने कहा, “महाराज यह जादूगर जब आपके दरबार में आया उसी समय मुझे शक हुआ। मैंने अपने सिपाहियों से इसके बारे में पता लगवाया। जिससे मुझे मालूम हुआ यह शत्रु देश का मंत्री है और आपको मारने के लिए आया है। मुझे सपहियों से मालूम हुआ कि वह आपको यहां लेकर आने वाला है। उसके आने से पहले ही मैं यहां पहुंच गया। जिससे यह बंदी बना लिया गया।”

 

 

 

 

राजा तेनाली से बहुत खुश हुए और उसे ढेर सारा इनाम दिया।

 

 

                                                   

 

 

मित्रों यह Short Stories Of Tenali Raman in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

1- Akbar Birbal Ke Chukule in Hindi / अकबर बीरबल के प्रसिद्ध चुटकुले हिंदी में

 

2- Akbar Birbal Ke Kisse Se / 5 अकबर बीरबल के किस्से हिंदी में

 

3- 21 Tenali Raman Stories in Hindi / 21 तेनाली रमन की प्रसिद्ध कहानियां

 

 

 

 

0 comments on “Short Stories Of Tenali Raman in Hindi / तेनाली रमन की हिंदी कहानियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *