Prince And Princess Story in Hindi Written / राजकुमारी की कहानी हिंदी

Prince And Princess Story in Hindi Written / राजकुमारी की कहानी हिंदी

Prince And Princess Story in Hindi मित्रों इस पोस्ट में Prince And Princess Story in Hindi For Reading दी गयी है।  यह बहुत ही बढियाँ हिंदी कहानी है।

 

 

 

एक राज्य में एक राजा और उसकी पुत्री रहते थे। उनकी पुत्री का नाम राजकुमारी आस्था था। वह बहुत ही घमंडी थी उसके इस घमंड से राजा बहुत ही परेशान रहते थे।

 

 

 

उन्होंने सोचा कि क्यों न इस का विवाह कर दिया जाए,  विवाह के बाद इसका व्यवहार जरूर सही हो जाएगा। ऐसा सोचकर एक दिन शुभ मुहूर्त में उन्होंने राज्य में स्वयंवर का आयोजन किया।

 

 

 

 

इस स्वयम्बर बहुत सारे राजकुमार राजा आए। उसके बाद राजा ने अपनी पुत्री  को आदेश दिया कि वह अपना वर चुने,  लेकिन राजकुमारी ने एक-एक करके सभी राजा और राजकुमारों का बहुत अपमान किया।

 

 

 

इससे इससे राजा बहुत ही क्रोधित हुए और बोले , ” तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरे द्वारा बुलाए गए इन राजा महाराजाओं का अपमान करने की ? ”

 

 

 

 

इसके बाद राजा ने ऐलान करवा दिया कि कल सुबह सबसे पहले जो भी मानव महल के सामने से गुजरेगा, तुम्हारा विवाह उसी के साथ किया जाएगा।

 

 

 

 

राजा  के इस आदेश से राजकुमारी बिल्कुल हैरान रह गई। अगले दिन सुबह उस दरवाजे से एक भिखारी  गुजरा। राजा ने अपने सैनिकों से उसे महल के अंदर बुलवा लिया और उससे कहा कि वह अपनी बेटी की शादी तुमसे करवाना चाहते हैं।

 

 

 

भिखारी हैरान रह गया।  उसने कहा, ” मैं तो बहुत ही गरीब हूं , फिर क्या कारण है क्या आप मेरी शादी राजकुमारी से करवाना चाहते हैं ? ”

 

 

 

 

राजा ने कहा, ” इसे पैसों की कोई क़द्र ही नहीं है।  यह लोगों से बुरा बर्ताव करती है। मैं इसे सजा देना चाहता हूँ। इसीलिए तुम्हारे साथ इसका विवाह करा रहा हूँ। ”

 

 

 

दोनों का विवाह हो गया। उसके बाद दोनों ने वहां से विदा ली। राजकुमारी भिखारी  के साथ चलते – चलते  काफी दूर निकल आए और एक  घाटी में पहुंचे।

 

 

 

 

घाटी बहुत ही खूबसूरत थी। यह देख राजकुमारी ने भिखारी से पूछा, ” यह किसकी घाटी है ? ” तब भिखारी ने कहा, ” यह महाराजा विक्रम की है। ”

 

 

 

 

थोड़ी दूर चलने के बाद एक बहुत ही बढ़िया शहर आया। राजकुमारी ने फिर से वही  सवाल दोहराया कि शहर  किसका है ? तब भिखारी ने कहा यह भी राजा विक्रम का है।

 

 

 

थोड़ी देर बाद भिखारी अपने घर पहुंच गया। उसका घर बहुत ही छोटा सा था और उसमें कुछ खास सामान भी नहीं था।  भिखारी ने राजकुमारी से कहा, ” हमारे यहां कोई नौकर – चाकर नहीं हैं।  सब काम खुद ही करना होगा। ”

 

 

 

लेकिन राजकुमारी को कोई काम नहीं आता था। इससे भिखारी बहुत गुस्सा होता था। एक दिन भिखारी ने कहा, ” तुम्हे तो घर का कोई काम नहीं आता है।  अब तुम एक काम करो, राजा विक्रमादित्य के यहाँ पर एक नौकरानी की आवश्यकता है।  तुम वहाँ पर काम करो। ”

 

 

 

अब राजकुमारी दिन भर राजा के यहां काम करती और शाम को उसे कुछ पैसे मिल जाते।  राजकुमारी को अपने किये पर बहुत पछतावा हो रहा था। उसे पैसे की अहमियत समझ में आ रही थी।

 

 

 

एक दिन राजा के महल में खूब सजावट हो रही। राजा की शादी होने वाली थी। राजकुमारी काम करते हुए धीरे – धीरे कह रही थी कि अगर मैंने ऐसी गलती नहीं की होती तो आज नौकरानी के जगह किसी राजमहल में रानी होती।

 

 

 

राजा विक्रम उसकी बात सुन रहे थे। उन्होंने कहा चलो अच्छा हुआ तुम्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और उसके बाद भी उसे लेकर एक कक्ष में जाते हैं, जहां पर राजकुमारी के पिता के साथ – साथ कई दूसरे राजा और राजकुमार बैठे रहते हैं जिसका वह अपमान की रहती है।

 

 

 

उसके बाद राजकुमारी सब से माफी मांगती है और कहती है कि मैंने आप लोगों के साथ बहुत बुरा व्यवहार किया है और इसकी सजा मुझे मिल रही है।

 

 

 

 

राजा विक्रम कहते हैं अगर  किसी को अपनी गलती का एहसास हो जाए तो उसके सारे पाप मिट जाते हैं। तुम्हे अपनी गलती का एहसास हो गया है और अब तुम्हारी सजा भी पूरी हुई।

 

 

 

अब तुमको मैं बताता हूं कि तुम जिस भिखारी से शादी की थी वह मैं ही था और यह हमने ही प्लान बनाया था  तुम्हें तुम्हारी गलती का एहसास दिलाया जा सके। उसके बाद राजकुमारी  बहुत खुश होती है और फिर राजकुमार विक्रम और राजकुमारी  का धूमधाम से विवाह हो जाता है।

 

 

 

मित्रों यह Prince And Princess Story in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Prince And Princess Story in Hindi For Reading की तरह की दूसरी हिंदी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

1- Princess Story in Hindi Written / राजकुमारी की कहानी हिंदी में

 

2- Lal Pari Aur Lal Kamal ki Kahani in Hindi / लाल परी और लाल कमल की कहानी

 

 

Pari ki Kahaniya