New Cap Seller And Monkey Story in Hindi / बन्दर और टोपी वाले की कहानी

New Cap Seller And Monkey Story in Hindi / बन्दर और टोपी वाले की कहानी

मित्रों यह Cap Seller And Monkey Story in Hindi Written है।  आपको यह Topiwala Aur Bandar Story in Hindi Text जरूर पसंद आएगी।

 

 

 

बन्दर और टोपी वाले की कहानी ( Bandar Aur Topi Wale Ki Kahani ) 

 

 

 

 

 

 

1- एक व्यापारी रंग बिरंगी टोपी लेकर शहर में बेचने जा रहा था। गर्मी पड़ रही थी, व्यापारी को भूख लगी थी। वह एक पेड़ की छाया देखकर वहां अपने पास लाया हुआ भोजन किया और लेट गया।

 

 

 

 

व्यापारी को नींद आ गई थी। उस पेड़ के ऊपर ढेर सारे बंदर रहते थे। उन्होंने व्यापारी के सर के ऊपर टोपी देखकर उसके थैले से सारी टोपी निकालकर पेड़ के ऊपर जा बैठे।

 

 

 

 

अब व्यापारी की नींद खुली तो उसने देखा थैले में एक भी टोपी नहीं थी। वह सोचने लगा तभी उसकी निगाह पेड़ के ऊपर गई। उसने देखा सारे बंदरो ने अपने सर के ऊपर टोपी रखी हुई है।

 

 

 

 

अब व्यापारी को एक उपाय सूझा। वह नाचने लगा तब सभी बंदर उसे देखकर नाचने लगे। नाचते हुए व्यापारी ने अपनी टोपी उतारकर जमीन पर फेक दिया।

 

 

 

 

अब क्या था, सारे बंदरो ने भी अपनी-अपनी टोपी को जमीन पर फेक दिया। अब व्यापारी ने देर करना उचित नहीं समझा। उसने सारी टोपी झोले में भर लिया और वहां से चलता बना।

 

 

 

प्यासे बंदर और तालाब की कहानी ( Thirsty Monkey And Pond Story in Hindi ) 

 

 

 

Thirsty Monkey And Pond Story in Hindi

 

 

 

2- एक पेड़ पर चार बंदर रहते थे। पेड़ के बगल में ही एक तालाब था। उस तालाब पर एक भेड़िए ने अपना डेरा बना रखा था। वह किसी भी जानवर को पानी नहीं पीने देता था।

 

 

 

 

चारो बंदर प्यास से बहुत ही परेशान थे। सभी एक साथ बोले, “यह भेड़िया हमे पानी पीने ही नहीं देगा। अब हमे यह जंगल छोड़कर जाना होगा।”

 

 

 

 

तभी एक बंदर बोला, “यह जंगल केवल इस भेड़िए का नहीं है। इस पर हमारा भी बराबर का हक है। चलो सभी मिलकर छोटे-छोटे बांस का टुकड़ा लाकर उसकी पाइप बनाएगे और पेड़ के ऊपर से ही पानी पिया करेंगे।”

 

 

 

 

चारो बंदरो ने छोटा-छोटा बांस का टुकड़ा जुटाया और उसे एक दूसरे से जोड़कर पाइप की तरह बना दिया और पेड़ पर बैठे-बैठे ही आराम से पानी पीने लगे।

 

 

 

 

यह देखकर भेड़िया हैरान हो गया। वह जब एक पाइप को पकड़ने की कोशिश करता तब दूसरा बंदर दूसरी पाइप से पानी पीने लगता।

 

 

 

 

जब वह दूसरे को पकड़ने की कोशिश करता तभी तीसरा बंदर पानी पीने के साथ ही पीछे से उस भेड़िए को मार देता था। इस तरह वह भेड़िया परेशान होकर जंगल छोड़कर चला गया।

 

 

 

अब तो उस तालाब का पानी सभी जानवरो के लिए सुलभ हो गया था।

 

 

 

बंदर और भिखारी की कहानी ( Monkey And Beggar Story in Hindi ) 

 

 

3- गोलू एक नौजवान लड़का था लेकिन वह कामचोर था। इसलिए भीख मांगकर गुजारा करता था। एक दिन वह एक फल की दुकान पर गया और वहां भीख मांगने लगा।

 

 

 

तभी दुकानदार ने उसे डांटकर भगा दिया और बोला, “तुम एक हट्टे-कट्टे नौजवान हो तुम्हे शर्म आनी चाहिए भीख मांगते हुए।”

 

 

 

 

गोलू चलते हुए एक पेड़ के नीचे गया, वहां एक बंदर पहले से भूखा बैठा था। उसने गोलू से कुछ खाने के लिए मांगा। गोलू के पास देने के लिए कुछ नहीं था।

 

 

 

 

वह बंदर के पास बैठ गया। तभी एक राहगीर उसके सामने 5 रुपये का सिक्का देकर चला गया। उस पैसे से गोलू और बंदर ने अपना पेट भर लिया।

 

 

 

 

गोलू बंदर से बोला, “तुम हमारा साथ दो तब हम लोग आराम से रह सकते है।”

 

 

 

बंदर तैयार हो गया। अब गोलू बंदर को नचाने लगा। इस तरह उन दोनों का पेट भर जाता था। एक दिन गोलू बंदर के साथ जा रहा था। तभी देखा एक बड़ा हाथी एक गड्ढे में गिरा हुआ है।

 

 

 

 

उसके दोनों पैर में घाव लग गई है। गोलू और बंदर दोनों ने मिलकर हाथी का इलाज किया हाथी ठीक हो गया था। अब हाथी और बंदर गोलू के साथ रहते थे।

 

 

 

 

बंदर के साथ हाथी भी खूब करतब दिखाता था। इस तरह गोलू को अच्छे पैसे मिल जाते थे। वह बंदर और हाथी का बहुत ख्याल रखता था। तीनो आराम से रहने लगे।

 

 

जादुई जूते की कहानी ( Magical Shoes Story in Hindi )

 

 

 

4 – सूरज एक गरीब घर का लड़का था। वह पढ़ने में तेज था लेकिन उसकी गरीबी आड़े आ जाती थी। सूरज स्कूल की दौड़ में हिस्सा लिया था। लेकिन उसके जूते भी फट गए थे।

 

 

 

 

एक दिन वह अपना जूता घर भूल गया था। वह अपना जूता लेने के लिए घर गया तो देखा उसकी माँ प्रार्थना कर रही थी। भगवान से अपनी गरीबी दूर करने के लिए कह रही थी।

 

 

 

 

सूरज अपना फटा जूता लेकर स्कूल जा रहा था। उसे एक पेड़ के नीचे एक चूजा गिरा हुआ मिला, वह चूजा ठंड से कांप रहा था। सूरज ने उसे अपने जूते में रख दिया।

 

 

 

 

अब चूजा आराम से बैठ गया उसकी ठंड दूर हो गई थी। इतने में उस चूजे की माँ आ गई। वह सूरज की अच्छी भावना देखकर खुश होते हुए बोली, “तुमने हमारे बच्चे को ठंड से बचाया है। मैं तुम्हे नए जूते देती हूँ।”

 

 

 

 

चूजे की माँ ने सूरज को नए जूते दे दिए और सूरज से बोली, “यह जादुई जूते है। तुम इसे पहनकर दौड़ की प्रतियोगिता में हमेशा ही प्रथम आओगे।”

 

 

 

जादुई आम की कहानी ( Magical Mango Story in HIndi ) 

 

 

Magical Mango Story in HIndi

 

 

 

5- एक राजा के बाग़ में आम के कई पेड़ थे और सभी पेड़ पके हुए आमों से लदे हुए थे। एक पेड़ पर एक पका आम सबसे अलग लग रहा था। उसका रंग स्वर्ण के समान था।

 

 

 

 

इसलिए वह सभी आमों को बात-बात में नीचा दिखाने की कोशिश करता था। एक दिन राजा और उनका मंत्री दोनों बाग़ में आए तो उस स्वर्ण के समान आम को देखने लगे।

 

 

 

 

राजा अपने मंत्री से बोला, “मंत्री इस जादुई आम को तोड़कर प्रदर्शनी में रखवा देना।”

 

 

 

मंत्री ने उस आम को तोड़कर प्रदर्शनी में रखवा दिया। एक दिन वह जादुई आम राजा से बोला, “महाराज, मैं जादुई आम हूँ और आमों का राजा भी हूँ। आप हमे क्यों नहीं खाते ?”

 

 

 

 

राजा बोला, “तुम जादुई आम सभी आमों के राजा हो क्या तुम्हे राजा होने का फर्ज याद नहीं है ?”

 

 

 

 

राजा आम से फिर बोला, “प्रत्येक राजा का धर्म होता है। अपनी प्रजा का समुचित ध्यान रखना। लेकिन तुम अपने सभी साथियो को नीचा दिखाते थे। इसलिए तुम्हे दंड देने के लिए ही प्रदर्शनी में रखा गया है।”

 

 

 

 

अब उस जादुई आम को अपनी गलती का पश्चाताप हुआ। उसने राजा से क्षमा मांग लिया।

 

 

 

 

मित्रों यह Cap Seller And Monkey Story in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Cap Seller And Monkey Story in Hindi With Moral की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

1- Top 10 + Jokes in Hindi For Kids / हिन्दी फनी जोक्स / मजेदार हिंदी जोक्स फ्री

 

2- Greedy Dog Story in Hindi Written / लालची कुत्ता की कहानी हिंदी में।

 

3- Crocodile And Monkey Story in Hindi / बन्दर और मगरमच्छ की कहानी

 

4- Cap seller meaning in Hindi

 

 

Jokes In Hindi हिंदी चुटकुले