Monday, 13 July, 2020

Funny Stories For Kids in Hindi / 3 बच्चों की मजेदार हिंदी कहानियां


Funny Stories For Kids in Hindi

Funny Stories For Kids in Hindi मित्रों इस पोस्ट में बच्चों की हिंदी में मजेदार कहानियां दी गयी हैं।  आप यह Funny Story For Child in Hindi जरूर पढ़ें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

Funny Stories For Kids in Hindi Written ( बिल्ली का कटोरा )

 

 

 

 

 

1- एक आदमी एक गाँव के गलियों में घूम रहा था।  उसने देखा एक घर के बाहर एक बिल्ली कटोरे में दूध पी रही थी।  वह कटोरा बहुत ही मंहगा था।

उसने सोचा, ” गांववाले इस कटोरे की कीमत शायद नहीं जानते, इसीलिए उन्हें इसकी कोई कद्र नहीं है।  इसमें बिल्ली को दूध पिला रहे हैं।

बिल्ली का कटोरा हिंदी की मजेदार कहानियां 

उसने पास में बैठे बिल्ली के मालिक से कहा, ” जनाब मुझे यह बिल्ली बहुत पसंद है।  मैं इसे खरीदना चाहता हूँ और मैं इसका ५०० रुपये देने को तैयार हूँ। “
इसपर उस बिल्ली के मालिक ने कहा, ” नहीं ५०० तो बहुत कम है, अगर आप ५००० रुपये देंगे तो मैं इसे बेच सकता हूँ।  ” आदमी ने कोई मोल – भाव  नहीं किया।  उस महंगे कटोरे की चाह में उसने ५००० दे दिए। उसने सोचा इससे अधिक तो कटोरे की कीमत है।
जब उसने बिल्ली खरीद ली तो उसने फिर से अपना दिमाग लगाते हुए बिल्ली के पुराने मालिक से कहा, ” जनाब अब तो मैंने यह बिल्ली खरीद ली है तो यह कटोरा भी दे ही दीजिये।  मैं आपको इसका १०० – २०० रुपये दे देता हूँ। “
इस पर उस गांववाले ने कहा, ” नहीं साहब, मैं इसे नहीं बेचूंगा। ” इसपर उस आदमी ने कहा, ” भाई क्या है इस कटोरे में ? इसे क्यों नहीं बेच रहे हो ? “
इसपर गाँववाले  ने कहा, ” मुझे यह तो नहीं पता, लेकिन यह कटोरा मेरे लिए बहुत ही लकी हैं।  पिछले दो हफ्ते से, जब से मैं इसमें बिल्लियों को दूध पिलाना शुरू किया हूँ, तब से मैं ५० बिल्लियां बेच चुका हूँ। ” वह आदमी ठगा सा वहाँ से चला गया।

 

 

 

 

Funny Stories for Childrens in Hindi 

 

 

 

 

 

2- एक जंगल में एक शेर रहता था। उसे जंगल में कुछ खाने को नहीं मिला रहा था। वह अपने भोजन की तलाश में घूमते हुए गांव में चला गया।

 

 

 

 

कुछ दुरी पर उसे एक घर दिखा। उसने अपने मन में सोचा, ”  यहाँ पर कुछ खाने को मिल जायेगा। .” यह सोचकर वह घर की ओर गया और खिड़की के निचे बैठ गया।

 

 

 

 

 

 

कुछ देर बाद घर के भीतर एक लड़के के रोने की आवाज आयी। शेर ने इधर – उधर देखा तो उसे कोई दिखायी नहीं दिया। उसने सोचा चलो घर में चल कर देखते हैं और जैसे ही  वह घर में जाने लगा वैसे ही उसने एक औरत की आवाज सुनी,”चुप हो जा बेटा, देखो लोमड़ी आ जाएगी। बाप रे, लोमड़ी कितनी बड़ी है। ” लेकिन लड़के ने रोना बंद नहीं किया।

 

 

 

 

माँ ने फिर कहा, “अरे वह देखो, भालू आ गया….भालू घर के बाहर बैठा है।  रोना बंद करो, नहीं तो भालू आ जायेगा’ ,लेकिन लड़के ने रोना बंद नहीं किया।

 

 

 

 

शेर खिड़की के इधर बैठा सोच रहा रहा था, “यह लड़का कितना अजीब है ! न तो यह भालू से डर रहा है और ना ही यह लोमड़ी से डर रहा है।”

 

 

 

comedy-hindi-story-pdf-download

 

 

 

 

वह लड़का अब भी रो रहा था।  तभी माँ ने कहा, ” देखो शेर आ रहा है। वह घर के बाहर बैठा है। ” फिर भी लडके ने रोना बंद नहीं किया। यह सुनकर शेर को बहुत आश्चर्य हुआ और लडके का साहस देखकर शेर डरने लगा।

 

 

 

 

तभी अचानक से शेर ने सोचा, “इस औरत को कैसे मालूम हुआ कि  मै खिड़की के नीचे  बैठा हूँ और लड़का भी बड़ा साहसी है।  मैंने तो आज तक किसी को ऐसा नहीं देखा की जो मुझसे नहीं डरता हो। लेकिन यह लड़का तो मुझसे थोड़ा भी नहीं डर रहा है। उल्टा मुझे ही उससे डर लग रहा है। ”

 

 

 

 

तभी औरत ने कहा, “अब चुप हो जाओ। यह लो किशमिश। “लड़का किशमिश को देखकर तुरंत चुप हो गया। शेर ने सोचा, “यह किशमिश कौन है? लगता है बहुत खतरनाक होगा।”

 

 

 

 

उसी समय शेर के ऊपर कुछ गिरा। शेर तुरंत वहाँ से जान बचाते हुए भागा । उसने सोचा, ” मेरे ऊपर जरूर किशमिश ही कूदा होगा। ” जबकि उसके  चोर  कूदा था, जो उस रात गाय चुराने आया था।

 

 

 

 

रात के समय में चोर भी द्वारा हुआ ही था।  वह शेर को गाय समझकर उसपर कूदा था, लेकिन जैसे ही उसने देखा कि यह शेर है तो चोर ककी हालत भी खराब हो गयी और शेर को लगा कि उसकी ऊपर किशमिश कूदा है।

 

 

 

 

दोनों ही डरे हुए थे।  शेर बहुत तेजी से पहाड़ी की ओर भाग रहा था, जिससे किशमिश उसके ऊपर से निचे गिर जाये, लेकिन चोर शेर को मजबूती से पकड़ रखा था। चोर को मालूम था अगर वह  गिरा तो शेर उसे जिन्दा नहीं छोड़ेगा । शेर को अपने जान की और चोर को जान का डर था।

 

 

 

 

थोड़ी देर में सुबह हो गयी। तभी चोर ने एक पेड़ देखा, वह तुरंत ही पेड़ पर चढ़ गया। उसे शेर से छुटकारा मिल गया और फिर उसने चैन की साँस ली।

 

 

 

उधर  शेर ने भी चैन की साँस ली कि चलो किशमिश से जान बची। शेर ने भगवान को धन्यवाद देते हुए कहा, ”  किशमिश सच में खतरनाक जानवर था। शेर भूखा ही अपनी गुफा में चला गया। ‘

 

 

 

 

Funny Stories for Students in Hindi

 

 

 

 

 

3- एक बार क्लास १० की हिंदी शिक्षिका अपने छात्रों को मुहावरा सीखा रही थी। एक छात्र को एक मुहावरा “ धोबी का कुत्ता न घर का न घाट का “ का अर्थ समझ नहीं आ रहा था।

 

 

 

 

इसलिए शिक्षिका ने इसे समझाने के लिए एक कहानी का सहारा लिया। उन्होंने कहानी सुनाना शुरू किया। बहुत साल पहले एक नगर में पवन नाम का एक लड़का रहता था।

 

 

 

 

वह बहुत ही अच्छा क्रिकेट का खिलाड़ी था, लेकिन उसका मन बहुत ही चंचल था।  जब वह क्रिकेट खेलता था तो विपक्षी टीम को बहुत परेशान करता था। वह अक्सर हर जगह वैसा ही करता था।

 

 

 

 

इससे उसके घरवाले बहुत परेशान रहते थे और सबसे  ज्यादा चिंता उसकी माँ को रहती थी।  समय बीतता गया और उसका मन अपने काम की बजाय दूसरों के काम में दखल अंदाजी करना और भी अधिक बढ़ गया।

 

 

 

 

जब उसका क्रिकेट अभ्यास का सेशन होता था, उसी समय अन्य खेलों का भी सेशन होता था तो उस समय पवन क्रिकेट का अभ्यास करने ना जाकर दूसरे खेल खेलने जाता था और वहाँ भी वह अलग – अलग खेल खेलता था।

 

 

 

 

 

उसकी यह आदत कुछ ही दिनों में उस पर बहुत भारी पड़ी।  कुछ ही दोनों बाद नगर प्रमुख ने ऐलान करवाया, ” सभी खेलों की एक प्रतियोगिता होगी और जो भी अपने – अपने खेलों में विजयी होगा, उसे बहुत बड़ा इनाम दिया जायेगा। ”

 

 

 

 

यह सब सुनकर सभी खिलाड़ी बड़े ही खुश हुए। सभी लोग खूब मेहनत करने लगे।  दो दिन का समय बचा हुआ था।  पवन भी खूब मेहनत करने लगा, लेकिन अन्य खेलों पर ध्यान देने की वजह से वह अपनी Performance खो चुका था।

 

 

 

 

उसने कड़ी मेहनत की, मगर क्रिकेट के खेल में उसका चयन नहीं हो सका।  इसपर उसने दूसरे खेलों में Try किया, मगर उसे किसी में भी Success नहीं मिली।

 

 

 

 

अलग – अलग खेलों में खेलने के कारण अब वह किसी में भी पारंगत नहीं था।  उसके दूसरे दोस्तों का अपने – अपने पसंद के खेलों में चयन हो गया, क्योंकि उन्होंने अपने – अपने क्षेत्र में काफी मेहनत की थी।  इस तरह से पवन पर यह कहावत ” धोबी का कुत्ता न घर का न घाट का ” बिलकुल सही बैठता है।

 

 

 

 

इस तरह से छात्रों को इस मुहावरे का अर्थ अच्छे से समझ आ गया।  शिक्षिका का अपने छात्रों को यह सन्देश देना था कि जीवन में वे सिर्फ वही काम करें जिसमें उनका मन करता हो, नहीं तो उनकी भी हालत पवन की तरह हो जाएगा।

 

 

 

 

मित्रों यह Funny Stories For Kids in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Funny Inspirational Stories for Students in Hindi की  तरह की दूसरी कहानियों के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और Funny Stories For Kids in Hindi Reading  को शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

1- Funny Stories in Hindi Written / हिंदी की शिक्षाप्रद मजेदार कहानियां

 

2- Funny Short Stories in Hindi Pdf / हिंदी की मजेदार कहानियां २०२०

 

3- Comedy Story in Hindi 2018 / 3 मजेदार हिंदी कॉमेडी की कहानियां जरूर पढ़ें

 

 

 

 

 

 

 

0 comments on “Funny Stories For Kids in Hindi / 3 बच्चों की मजेदार हिंदी कहानियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *